ऑस्ट्रेलिया में दशक का सबसे खतरनाक तूफान



नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

ऑस्ट्रेलिया में Cyclone Mangga का असर जमीन पर दिखने लगा है। इसके कारण तेज हवाओं के साथ भारी बारिश कई इलाकों में हुई है। सबसे ज्यादा प्रभावित पश्चिम ऑस्ट्रेलिया में रविवार को करीब 50,000 इकाइयों की बिजली चली गई। रिपोर्ट्स के मुताबिक यहां लैंडफॉल से पहले कम से कम 100 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। सोमवार को तूफान के और तीव्र होने के साथ ही हालात और गंभीर होने की आशंका है। पश्चिम ऑस्ट्रेलिया के फायर ऐंड इमर्जेंसी डिपार्टमेंट के ऐक्टिंग असिस्टेंट कमिश्नर जॉन ब्रूमहॉल के मुताबिक इतना भयानक तूफान ‘दस साल में एक बार आता है।’

लोगों को जारी चेतावनी

NBT

जॉन ने बताया है कि आमतौर पर वहां तूफान दक्षिणपश्चिम से आते हैं और यह उत्तरपश्चिम से आया है। इसलिए इमारतों, छतों और हल्की चीजों पर इसका ज्यादा असर होगा। लोगों से उनकी संपत्ति की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा गया है। साथ ही ज्यादा से ज्यादा चीजों को बांधकर रखने को कहा गया है। मौसम विभाग के अधिकारी जेम्स ऐश्ली के मुताबिक मौसम की स्थिति जटिल है और बदलती जा रही है। हिंद महासागर में उठा Cyclone Mangga ठंडे माहौल से जा मिला है।

पर्थ में खराब होंगे हालात

NBT

पर्थ के मेट्रोपॉलिटन इलाके में 37,000 घरों और बिजनस की बिजली तूफान के बाद चली गई। एक पावर कंपनी ने बताया कि घरों को रात में बिना बिजली के रहना पड़ सकता है क्योंकि अभी मरम्मत करना खतरनाक होगा। पर्थ में हालात सोमवार सुबह तक खराब हो सकते हैं और दोपहर से पहले राहत की उम्मीद नहीं है। यहां दक्षिणपश्चिम इलाके पर सबसे ज्यादा असर रहने वाला है। पर्थ में कई इमारतों, घरों, दीवारों और बिजली के उपकरणों को नुकसान की खबर है।

पर्थ में तेज हो रहा तूफान



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *