नासा ने मंगल मिशन के लिए रोवर लॉन्च की तारीख आगे बढ़ाई



NASA Perseverance Rover Mars Mission: अमेरिका की स्पेस एजेंसी NASA के महत्वाकांक्षी मंगल मिशन (Mars Mission) के लॉन्च को आगे बढ़ा दिया गया है और यह 30 जुलाई से पहले नहीं होगा। पहले यह जुलाई के आखिरी हफ्ते में होने वाला था।

Edited By Shatakshi Asthana | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

Timelapse वीडियो- NASA ने 60 मिनट में दिखाई सूरज के 10 साल की झलक
हाइलाइट्स

  • नासा के मंगल मिशन को लॉन्च के लिए करना होगा इंतजार
  • जुलाई के आखिरी हफ्ते में लॉन्च नहीं, आगे बढ़ी तारीख
  • नासा ने 30 जुलाई से पहले लॉन्च नहीं करने का फैसला किया
  • अभी टीम को इंस्पेक्शन के लिए कुछ दिन और लगेंगे

वॉशिंगटन

अमेरिका की स्पेस एजेंसी NASA (नैशनल ऐरोनॉटिकल ऐंड स्पेस ऐडमिनिस्ट्रेशन) के मंगल मिशन को कुछ वक्त के लिए और इंतजार करना पड़ेगा। जुलाई के आखिरी हफ्ते में होने वाला Mars Perseverance Rover लॉन्च अब अगस्त में होगा। मंगल ग्रह पर यान भेजने का मौका 26 महीने में एक बार आता है। यह NASA का अब तक का सबसे महत्वाकांक्षी अभियान है। इस रोवर में लगे पहले हेलिकॉप्टर इंजनुइटी (Mars Helicopter Ingenuity) को नाम भारतीय मूल की छात्रा ने दिया है।

इंस्पेक्शन के लिए अभी और वक्त

NASA और यूनाइटेड लॉन्च अलायंस ने लॉन्च की पहली कोशिश की तारीख 30 जुलाई 2020 से पहले नहीं करने का फैसला किया है। स्पेसक्राफ्ट मेट ऑपरेशन्स की तैयारी में देरी की वजह से लॉन्च वीइकल प्रॉसेसिंग में भी देरी हो गई है। वेट ड्रेस रिहर्सल में एक लिक्विड ऑक्सिजन सेंसर लाइन के डेटा को लेकर यह फैसला किया गया कि टीम को अभी इन्स्पेक्ट करने के लिए कुछ वक्त और चाहिए।

…तो अगले साल तक करना होगा इंतजार

फ्लाइट अनैलेसिस टीम्स ने लॉन्च के मौके 15 अगस्त तक के लिए बढ़ा दिए हैं और देखा जा रहा है कि उसके आगे भी क्या लॉन्च पीरियड एक्सटेंड हो सकता है। फिलहाल माना जा रहा है कि अगर अगस्त के दूसरे हफ्ते तक लॉन्च नहीं हो पाया तो इसके लिए अगले साल 2022 तक इंतजार करना होगा जब पृथ्वी और मंगल ग्रह एक पंक्ति में होंगे। ऐसा होने पर NASA को कुल 50 करोड़ अमेरिकी डॉलर का नुकसान होगा। इसलिए, नासा 15 अगस्त से पहले यान का प्रक्षेपण करने का प्रयास करेगा।

इस साल ISS, फिर चांद पर भेजने की तैयारी

  • इस साल ISS, फिर चांद पर भेजने की तैयारी

    अभी तक स्पेस में इस्तेमाल की जा रही माइक्रोग्रैविटी टॉइलट (तस्वीर में) पुरुष ऐस्ट्रोनॉट्स को ध्यान में रखकर बनाए जाते थे लेकिन जैसे-जैसे महिला ऐस्ट्रोनॉट्स की संख्या बढ़ती गई, खास टॉइलट की जरूरत महसूस की जाने लगी। खासकर तब जब 2024 तक चांद पर Artemis Mission के तहत एक महिला और एक पुरुष को भेजे जाने की तैयारी है। ISS पर इसका टेस्ट Artemis के लिए अहम होगा। इस टॉइलट में महिलाओं के लिए फनल-सक्शन सिस्टम होगा और ऐस्ट्रोनॉट्स खुद को बेतर तरीके से फिट कर सकें, इसके लिए स्पेशल डिजाइन बनाई गई है।

  • कई खास फीचर्स

    पहले के सिस्टम्स के मुकाबले इसका द्रव्यमान (Mass) और आयतन (Volume) कम होगा और इसे इस्तेमाल करना भी आसान होगा। यही नहीं, इसमें यूरिन (Urine) ट्रीटमेंट की सुविधा भी होगी जिससे स्पेसक्राफ्ट के रीसाइक्लिंग सिस्टम में इसे प्रॉसेस किया जा सकेगा। सीट पर बैठते वक्त ऐस्ट्रोनॉट्स के पैर फंसाने के लिए खास हुक भी लगे होंगे।

  • रीसाइकल किया जाता है वेस्ट

    स्पेसक्राफ्ट में वेस्ट कलेक्शन सिस्टम डिवेलप करना गुरुत्वाकर्षण (Gravity) की वजह से एक बड़ी चुनौती होता है। खासकर पेशाब और मल (Urine और Faeces) को अलग करके रखना मुश्किल होता है। यूरिन का इस्तेमाल जहां रीसाइकल करने के बाद पीने के पानी के तौर पर किया जाता है, वहीं मल को कंटेनर में रखा जाता है। पहले के डिजाइम पुरुष यात्रियों को ध्यान में रखकर बनाए जाते थे लेकिन शारीरिक संरचना में अंतर की वजह से यूनिसेक्स टॉइलट (महिला और पुरुष, दोनों के लिए) बनाना एक बड़ी चुनौती थी।



मंगल पर जीवन के निशान तलाशेगा रोवर


पहले तय लॉन्च की तारीख के मुताबिक NASA का रोवर 18 फरवरी, 2021 को मंगल पर पहुंचता और जिजेरी क्रेटर (Jezero Crater) पर लैंड करता। NASA के Mars Exploration Program के तहत विकसित किया गया रोवर का ऐस्ट्रोबायॉलजी मिशन पहले मौजूद रही माइक्रोबियल लाइफ के निशान खोजेगा। इसमें 7 अलग-अलग साइंटिफिक इंस्ट्रुमेंट्स होंगे और यह केप कनेवरल एयर फोर्स स्टेशन से लिफ्ट ऑफ होगा।

पृथ्वी से करोड़ों मील दूर NASA के क्राफ्ट ने लीं दो सितारों की तस्वीरें, जानें क्यों हैं खासपृथ्वी से करोड़ों मील दूर NASA के क्राफ्ट ने लीं दो सितारों की तस्वीरें, जानें क्यों हैं खासक्या आपको पता है कि जिन सितारों को रात के काले आसमान में आप टिमटिमाते देख रहे हैं, वे दरअसल एक दूसरे कितनी दूर हैं। हो सकता है अंतरिक्ष से आने वाली नई तस्वीरें इस राज से पर्दा हटा सकें। दूसरे ग्रहों और स्पेस को ऑब्जर्व करने के लिए भेजे गए नासा के स्पेसक्राफ्ट New Horizons ने पहली बार डीप स्पेस में एलियन अंतरिक्ष की तस्वीरें भेजी हैं।

Persevarance Rover

Persevarance Rover

Web Title nasa moves possible launch of mars perseverance rover to not before 30 july(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *