chile protest viral picture: चिली में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच संघर्ष के बीच कोल्डड्रिंक पीने का कूल अंदाज वायरल – wearing dark glasses suit and sipping cold drink during protest images goes viral


रोजस ने बताया कि वह भी प्रदर्शनों में शामिल हैं
हाइलाइट्स

  • चिली में पिछले एक महीने से ज्यादा वक्त से सामाजिक-आर्थिक समानता के लिए प्रदर्शन हो रहे हैं
  • पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़प के बीच एक शख्स का कूल अंदाज वायरल हो गया
  • हिंसक प्रदर्शन के दौरान सूट पहने 68 साल के बुजुर्ग कोल्डड्रिंक पीते नजर आ रहे हैं
  • यह तस्वीर 68 साल के रिटायर जिनो रोजस की है, रोजस खुद भी प्रदर्शनों में हिस्सा ले रहे हैं

सैंटियागो

चिली के सभी प्रमुख शहरों में इन दिनों सामाजिक और आर्थिक समानता के लिए प्रदर्शन हो रहे हैं। इस प्रदर्शन के बीच एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। मास्क लगाए प्रदर्शनकारी और पुलिस आमने-सामने हैं और हिंसक प्रदर्शनों के बीच एक शख्स सूट-बूट पहने हाथ में कोल्डड्रिंक की बोतल लेकर बहुत आराम से खड़ा है। सोशल मीडिया पर प्रदर्शनकारी की यह तस्वीर वायरल हो रही है।

हिंसक प्रदर्शन के बीच नजर आया कूल अंदाज

यह तस्वीर 68 साल के रिटायर जिनो रोजस की है। रोजस खुद भी प्रदर्शन में शामिल हो रहे हैं और प्रदर्शनकारियों की मांगों से सहमत हैं। पुलिस जिस वक्त मास्क लगाए प्रदर्शनकारियों को हटाने की कोशिश कर रही है, उसमें सनग्लास लगाए रोजस आराम से कोल्डड्रिंक पीते नजर आ रहे हैं। हिंसक प्रदर्शन के बीच रोजस का यह अंदाज लोगों को काफी पसंद आ रहा है।

NBT

प्रदर्शन के बीच यह कूल अंदाज छा गया

रोजस ने कहा, लगातार प्रदर्शन से थक गए थे

रोजस से जब उनके इस कूल अंदाज के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘हर प्रदर्शन के बीच हमें थोड़ा वक्त आराम के लिए चाहिए होता है। आप प्रदर्शन करते हुए थक जाते हैं, अपने सूट में असहज महसूस करने लगते हैं, आपको गर्मी लग रही होती है। ऐसे वक्त में हम सबकको थोड़ा सा आराम करने की जरूरत महसूस होती ही है।’

​1990 के बाद का सबसे बड़ा प्रदर्शन

  • ​1990 के बाद का सबसे बड़ा प्रदर्शन

    चिली के अलग-अलग शहरों में लाखों की संख्या में लोग सरकार विरोधी प्रदर्शन लगातार जारी है। इस प्रदर्शन में 10 लाख से अधिक लोगों के शामिल होने का दावा किया जा रहा है। 1990 में तानाशाह अगुस्तो पिनोशे के खिलाफ हुए प्रदर्शन के बाद यह अब तक का सबसे बड़ा प्रदर्शन है। देखें, चिली की सड़कों पर संग्राम और क्या है लोगों की मांगें…

  • प्रदर्शन को कलाकार-खिलाड़ियों का समर्थन

    चिली में प्रदर्शनकारियों को खिलाड़ियों, कलाकारों और जानी-मानी हस्तियों का भी समर्थन मिल रहा है। मशहूर गायिका मोन लाफर्ते ने लास वेगस में रेड कॉर्पेट पर प्रदर्शनकारियों के खिलाफ पुलिस की क्रूरता पर अपना खामोश विरोध दर्ज किया। उन्होंने सीने पर पुलिस क्रूरता के खिलाफ संदेश दिया और प्रदर्शनकारियों के साथ सहमति जताई। चिली की फुटबॉल टीम ने भी प्रदर्शनकारियों के समर्थन में एक मैच नहीं खेलने का ऐलान किया है।

  • ​वोक अप चिली के नारों से गूंजा देश

    प्रदर्शनकारियों की मांग राष्ट्रपति के इस्तीफे की है। बड़ी संख्या में बैनर लेकर पहुंचे लोग जोर-जोर से वोक अप चिली के नारे लगा रहे हैं। पिछले महीने ही चिली के राष्ट्रपति सेबेस्टिन पिन्येरा ने पूरी कैबिनेट को निलंबित कर दिया था। राष्ट्रपति ने कई सामाजिक सुधारों की मांग की थी, जिसे लागू करने की भी प्रदर्शनकारी मांग कर रहे हैं।

  • मेट्रो किराए बढ़ने को लेकर शुरू हुआ प्रदर्शन

    चिली में विरोध-प्रदर्शन की शुरुआत मेट्रो के किराए बढ़ने से हुई थी। मेट्रो किराए बढ़ने के विरोध में शुरू हुए प्रदर्शन की जड़ें लंबे समय से जारी गैर-बराबरी में हैं। प्रदर्शनकारी देश में आर्थिक-सामाजिक सुधारों और बराबरी की मांग कर रहे हैं।

  • 10 लाख लोग प्रदर्शन में शामिल, 20 की मौत

    समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के अनुसार लगभग एक महीने से देश में प्रदर्शन का दौर जारी है। इस प्रदर्शन में अब तक 10 लाख लोग शामिल हो चुके हैं। प्रदर्शनकारियों पर पुलिस बल का भी प्रयोग हुआ है और उसमें अब तक 20 लोगों के मारे जाने की खबर है।

  • प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले

    पिछले एक एक महीने में चिली में काफ़ी उठापटक की स्थिति रही है। अब तक 10 हजार से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है। सड़कों पर प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए भारी संख्या में पुलिस और सेना तैनात है। राजधानी में आपातकाल घोषित है, लेकिन प्रदर्शनकारी डटे हुए हैं। प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले और पानी की बौछार भी छोड़ी।

  • लातिन अमेरिका के समृद्ध देशों में है चिली

    चिली लातिन अमरीका का धनी देश रहा है, लेकिन यहां गैर-बराबरी बड़ी समस्या है। चिली के राष्ट्रपति ने नए सामाजिक सुधार लागू करने का वादा किया था जिसमें न्यूनतम मानदेय, वेतन और पेंशन सुधार शामिल हैं।

चिली में पिछले महीने से जारी है प्रदर्शनों का दौर

सैंटियागो में मेट्रो किराए में वृद्धि को लेकर प्रदर्शन शुरू हुए थे। यह प्रदर्शन अब देश में आर्थिक और राजनीतिक समानता की मांग को लेकर पूरे देश में फैल गए हैं। आम जनता की मांगों को देश की चर्चित हस्तियों और फुटबॉल टीम ने भी समर्थन दिया है। प्रदर्शनकारी अब राजनीतिक सत्ता में परिवर्तन के साथ-साथ समाज में आर्थिक, राजनीतिक समानता की भी मांग कर रहे हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *