Coronavirus cases in Italy: कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद इटली की नर्स ने किया सुसाइड – 34 year italian nurse kills herself after testing positive for coronavirus



34 वर्षीय डेनिएला ट्रेजी इटली में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित लोम्बार्डी के एक अस्पताल में बतौर नर्स काम कर रही थीं। हाल ही में उन्होंने कोरोनो वायरस का टेस्ट कराया, जिसका रिजल्ट पॉजिटिव आया। नर्सिंग महासंघ ने कहा कि नर्स बड़े तनाव में थी इसीलिए उसने आत्महत्या कर ली।

Published By Ruchir Shukla | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

हाइलाइट्स

  • इटली में 34 वर्षीय नर्स ने कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद किया सुसाइड
  • दूसरों को नहीं फैले कोरोना वायरस इसलिए डेनिएला ट्रेजी ने उठाया ये कदम
  • नर्सिंग महासंघ ने कहा- बड़े तनाव में थी नर्स ट्रेजी
  • इटली में कोरोना से मृतकों की संख्या बढ़कर 6,820 हुई

रोम

महामारी बन चुके कोरोना वायरस का कहर पूरी दुनिया में देखने को मिल रहा है। इटली में इस खतरनाक वायरस से सबसे ज्यादा तांडव मचाया है। बुधवार तक यहां करीब सात हजार लोगों की जान इस महामारी ने ले ली है। इसी बीच इटली के अस्पताल में काम करने वाली एक नर्स ने कोरोना का टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद आत्महत्या कर ली। डेली मेल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, 34 वर्षीय नर्स को जब पता चला कि उसे कोरोना है तो वो बेहद तनाव में थी। उसे डर था कि कहीं उसकी वजह से दूसरे भी इस खतरनाक वायरस से संक्रमित नहीं हो जाएं। इसी वजह से उसने आत्महत्या कर ली।

कोरोना पॉजिटिव आने से परेशान थी नर्स

34 वर्षीय डेनिएला ट्रेजी इटली में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित लोम्बार्डी के एक अस्पताल में बतौर नर्स काम कर रही थीं। हाल ही में उन्होंने कोरोनो वायरस का टेस्ट कराया, जिसका रिजल्ट पॉजिटिव आया। इटली के नर्सिंग महासंघ ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव आने के बाद ट्रेजी काफी परेशान हो गई थीं। वो ‘दर्द और निराशा’ में थीं। नर्सिंग महासंघ ने कहा कि नर्स बड़े तनाव में थी क्योंकि उसे इस बात डर था कि वह कोरोना संकट को नियंत्रण में लाने की कोशिश करते हुए खुद वायरस फैला रही है, इसी वजह से उसने आत्महत्या कर ली।

इसे भी पढ़ें:- नहीं संभले तो 13 लाख को चपेट में लेगा कोरोना?



दूसरे तक न फैले वायरस इसलिए किया सुसाइड

कोरोना वायरस से बुधवार को इटली मरने वालों की संख्या बढ़कर 6,820 हो गई। इटली के एक गांव वरतोवा में लगी एक तख्ती पर अमूमन अखबार टांगे जाते हैं लेकिन आज उस पर लिखे हुए शोक संदेश उस त्रासदी को बयान कर रहे हैं जिसे वहां के मेयर ने ‘युद्ध से भी अधिक बुरा’ बताया है। मेयर ऑर्लैंडो गुअलदी समेत अधिकतर इतालवी लोग कोरोना वायरस महामारी से हुई तबाही की तुलना द्वितीय विश्व युद्ध से कर रहे हैं। हर शाम जब रोम में इटली में मरने वालों की संख्या पढ़कर सुनाई जाती है तब सहसा विश्वास नहीं होता।

इसे भी पढ़ें:- कोरोना वायरस: एक दिन में गई 743 की जान



कोरोना से मृतकों की संख्या करीब 7 हजार पहुंची

वरतोवा की कुल जनसंख्या 4,600 है। इस गांव में जहां सालाना लगभग 60 मौतें होती थी वहां कोरोना वायरस से कुछ ही दिन में 36 लोग काल के गाल में समा चुके हैं। गुअलदी ने एएफपी से कहा, ‘यह युद्ध से भी बुरी विभीषिका है।’ कब्रिस्तान को गांव वालों के लिए बंद कर दिया गया है क्योंकि जनता के एकत्रित होने पर मनाही है इसलिए कब्र पर कोई फूल रखने भी नहीं जा सकता। मेयर ने कहा, ‘किसी की भी मौत इस तरह नहीं होनी चाहिए।’ वरतोवा और बरगामो शहर इटली में फैले संक्रमण के केंद्र में हैं। यहां पर संक्रमण और मौतों का आंकड़ा इस समय विश्व में सर्वाधिक और चीन के हुबेई प्रांत से आए आंकड़ों से भी अधिक है।

Web Title 34 year italian nurse kills herself after testing positive for coronavirus(News in Hindi from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *