Musharraf death penalty: परवेज मुशर्रफ ने विशेष अदालत के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी – pervez musharraf moves supreme court against high treason case verdict


मुशर्रफ के समर्थक सजा का कर रहे विरोध

इस्लामाबाद

पाकिस्तान के पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने विशेष अदालत के फैसले के खिलाफ कोर्ट में गुहार लगाई है। विशेष अदालत के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है जिसमें उन्हें घोर राजद्रोह के मामले में दोषी करार देते हुए फांसी की सजा सुनाई गई है। इस्लामाबाद की विशेष अदालत ने पिछले साल 17 दिसंबर को 74 वर्षीय सेवानिवृत्त जनरल को हाई प्रोफाइल राजद्रोह के मामले में छह साल की सुनवाई के बाद दोषी करार देते हुए मौत की सजा सुनाई थी। पाक के पूर्व तनाशाह फिलहाल दुबई में रह रहे हैं ।

लाहौर हाई कोर्ट ने रद्द की मुशर्रफ की सजा

पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के नेतृत्व वाली पाकिस्तान मुस्लिम लीग -नवाज (पीएमएल-एन) की सरकार ने पूर्व सेना प्रमुख के खिलाफ 2013 में राजद्रोह का मामला दायर किया था। इन दिनों दुबई में रह रहे मुशर्रफ पर आरोप है कि उन्होंने नवंबर 2007 में संविधान को स्थगित करते हुए आपातकाल लगाया था। इस वजह से ऊंची अदालतों के कई न्यायाधीशों को उनके घरों में बंद कर दिया और 100 से अधिक न्यायाधीशों को बर्खास्त कर दिया गया था। लाहौर उच्च न्यायालय ने राजद्रोह मामले में मुशर्रफ के मुकदमे को असंवैधानिक घोषित कर दिया था जिसमें पूर्व सेना प्रमुख को दी गयी मौत की सजा रद्द हो गयी थी।

पढ़ें : परवेज मुशर्रफ ने अपनी फांसी की सजा को दी चुनौती

पूर्व राष्ट्रपति ने दायर की 90 पेज की अपील

मुशर्रफ को बड़ी राहत देते हुए, लाहौर हाई कोर्ट ने विशेष अदालत के गठन को असंवैधानिक घोषित कर दिया क्योंकि पूर्व राष्ट्रपति के खिलाफ राजद्रोह का मामला कानून के अनुसार तैयार नहीं किया गया था। पूर्व तानाशाह के अधिवक्ता बैरिस्टर सलमान सफदर ने विशेष अदालत के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में 90 पृष्ठों की अपील दायर की है जिसमें मुशर्रफ ने विशेष अदालत के फैसले को रद्द किए जाने का अनुरोध किया है।

पढ़ें : लाहौर हाई कोर्ट ने रद्द की परवेज मुशर्रफ की मौत की सजा

2016 से दुबई में रह रहे हैं पाक के पूर्व राष्ट्रपति

अपील में कहा गया है कि माननीय अदालत कोई अन्य उपाय जो सही और उचित जान पड़ता है उसे अपना सकती है। एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार याचिका में कहा गया है कि विशेष अदालत में सुनवाई के दौरान पूर्व राष्ट्रपति की अनुपस्थिति जानबूझकर नहीं थी बल्कि वह अदालत में पेश होने में अक्षम थे क्योंकि वह बीमार थे और उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं था। इसमें कहा गया है कि विशेष अदालत ने मुशर्रफ की बीमारी को स्वीकार कर लिया था, लेकिन पूर्व राष्ट्रपति को उनकी अनुपस्थिति में ही उन्हें दोषी ठहरा दिया। मुशर्रफ 2016 से ही दुबई में रह रहे हैं जहां वह इलाज कराने के लिए गए थे । जबसे उन्होंने पाकिस्तान छोड़ा है तब से सुरक्षा एवं स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए वह वापस नहीं लौटे हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *