Pakistan Inflation Soars To A New High Before Bakrid – पाकिस्तान में महंगाई के बीच मनेगी बकरीद, दूध-सब्जियों की कीमतों में उछाल, लोग बेहाल


ख़बर सुनें

इस बार पाकिस्तान में महंगाई बम के बीच लोग बकरीद का त्योहार मनाएंगे। पाकिस्तानी अवाम के लिए इस बार की बकरीद फीकी रहने की उम्मीद है, क्योंकि महंगे खाद्य पदार्थों से लोग रोजमर्रा की वस्तुएं भी नहीं खरीद पा रहे हैं। भारत से सभी तरह के व्यापारिक रिश्ते खत्म करने के पाकिस्तान सरकार के फैसले ने लोगों के लिए और ज्यादा मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। 

इनके दाम बढ़े

पाकिस्तान में ज्यादातर सब्जियों की आपूर्ति भारत से ही होती है। ऐसे में इमरान सरकार के व्यापार न करने के फैसले का असर दिखना शुरू हो गया है। देश की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले कराची शहर में ही प्याज, अदरक, लहुसन और टमाटर जैसी सब्जियों की कीमतों में सबसे ज्यादा तेजी देखने को मिल रही है। 

कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने से धड़ाम हुआ कराची शेयर बाजार

क्या घास खिलाने पर मजबूर करेगी सरकार

प्याज और टमाटर की कीमतों में बढ़ोतरी से लोगों का सरकार के प्रति गुस्सा देखने को मिल रहा है।  रसोई का बजट बिगड़ने से परेशान नजमा का कहना है, ‘बढ़ती महंगाई से रसोई में रोजमर्रा की जरूरतों का बजट बिगड़ गया है। कमाई तो बढ़ नहीं रही, लेकिन दूध, सब्जी से लेकर मीट तक सब कुछ महंगा होता जा रहा है। अब भारत से व्यापार बंद करने से चीजों के दाम और ज्यादा बढ़ेंगे। घर कैसे संभालें, समझ ही नहीं आ रहा।’

प्याज बेचने वाले इफ्तिकार का कहना है, ‘ईद में बाजार से रौनक गायब है। सब्जियों और प्याज के लिए भारत पर निर्भर हैं। मुझे यकीन है कि प्याज अब और महंगी होगी। इमरान खान हमें क्या खिलाना चाहते हैं? घास?’ पता नहीं सरकार ने आखिर यह फैसला क्यों लिया?’  

इन सब्जियों के बढ़े दाम

डॉन अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक कराची में अदरक और लहुसन क्रमशः 400 रुपये व 320 रुपये किलो की दर से बिक रहा है। वहीं तुरई 150 रुपये प्रति किलो, लौकी 120 रुपये प्रति किलो, बंदगोभी 80 रुपये प्रति किलो और शिमला मिर्च 120 रुपये प्रति किलो की दर से बिक रही है। इसके हरी मिर्च 100 रुपये रुपये किलो, चीन से आयात होने वाली अदरक थोक बाजार में 280 रुपये प्रति किलो, ईरान का लहुसन 240 रुपये किलो की दर से बेचा जा रहा है। 

दिन ब दिन गरीब होता जा रहा है पाकिस्तान, सरकार के खिलाफ लोगों में गुस्सा

ब्रेड भी महंगी

नाश्ते में लिया जाने वाला ब्रेड मक्खन भी महंगा हो गया है। अब छोटी ब्रेड का पैकेट 35 रुपये, मध्यम साइज की ब्रेड 56 रुपये और बड़ी ब्रेड का पैकेट 100 रुपये हो गया है। चार पीस वाला बन 55 रुपये और रस्क का पैकेट 80 रुपये का हो गया है। वहीं चीनी की कीमत 72 रुपये प्रति किलो हो गई है। 
 

वस्तु कीमत 
दूध  108 रुपये प्रति लीटर
दही    122 रुपये प्रति किलो 
मटन 1009 रुपये प्रति किलो
केले  130 रुपये दर्जन 
सरसों का तेल 246 रुपये प्रति लीटर 
प्याज       64.69 रुपये प्रति किलो
टमाटर 66.57 रुपये प्रति किलो 
चीनी 77.30 रुपये प्रति किलो
केरोसिन 151.25 रुपये प्रति लीटर 
एलपीजी सिलेंडर 1362.50 रुपये (11 लीटर)
पेट्रोल 113.18 रुपये प्रति लीटर 
डीजल 127.30 रुपये प्रति लीटर

 

इनकी कीमतों में हुआ इजाफा

खाने-पीने का सामान

वस्तु   इजाफा (फीसदी में) जून की तुलना में
आलू 16.84 
मूंग दाल 05.41
अंडे 05.06
गुड़ 04.80
मा की दाल 04.50
आटा 03.58
ताजी सब्जियां 03.56
मसूर दाल 02.83
घी 02.49
बेकरी और टॉफी 02.45
चावल 01.77
दूध 01.41
चने की दाल 01.31
टमाटर 01.17
चीनी 01.09
मीट 00.93
सिगरेट 11.13

अन्य वस्तुएं

वस्तु  इजाफा (फीसदी में) जून की तुलना में
गैस 30.90
गाड़ियां 09.47
कंस्ट्रक्शन सामान 05.09
पर्सनल केयर सामान 04.69
ट्रांसपोर्ट सेवा 04.23
ईंधन 03.20
बिजली 02.63
किराया 01.86
कपड़े-जूते 07.04
स्वास्थ्य सेवा 08.97
मौजमस्ती 07.06
स्कूल फीस 06.09

इस बार पाकिस्तान में महंगाई बम के बीच लोग बकरीद का त्योहार मनाएंगे। पाकिस्तानी अवाम के लिए इस बार की बकरीद फीकी रहने की उम्मीद है, क्योंकि महंगे खाद्य पदार्थों से लोग रोजमर्रा की वस्तुएं भी नहीं खरीद पा रहे हैं। भारत से सभी तरह के व्यापारिक रिश्ते खत्म करने के पाकिस्तान सरकार के फैसले ने लोगों के लिए और ज्यादा मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। 

इनके दाम बढ़े

पाकिस्तान में ज्यादातर सब्जियों की आपूर्ति भारत से ही होती है। ऐसे में इमरान सरकार के व्यापार न करने के फैसले का असर दिखना शुरू हो गया है। देश की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले कराची शहर में ही प्याज, अदरक, लहुसन और टमाटर जैसी सब्जियों की कीमतों में सबसे ज्यादा तेजी देखने को मिल रही है। 

कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने से धड़ाम हुआ कराची शेयर बाजार

क्या घास खिलाने पर मजबूर करेगी सरकार

प्याज और टमाटर की कीमतों में बढ़ोतरी से लोगों का सरकार के प्रति गुस्सा देखने को मिल रहा है।  रसोई का बजट बिगड़ने से परेशान नजमा का कहना है, ‘बढ़ती महंगाई से रसोई में रोजमर्रा की जरूरतों का बजट बिगड़ गया है। कमाई तो बढ़ नहीं रही, लेकिन दूध, सब्जी से लेकर मीट तक सब कुछ महंगा होता जा रहा है। अब भारत से व्यापार बंद करने से चीजों के दाम और ज्यादा बढ़ेंगे। घर कैसे संभालें, समझ ही नहीं आ रहा।’

प्याज बेचने वाले इफ्तिकार का कहना है, ‘ईद में बाजार से रौनक गायब है। सब्जियों और प्याज के लिए भारत पर निर्भर हैं। मुझे यकीन है कि प्याज अब और महंगी होगी। इमरान खान हमें क्या खिलाना चाहते हैं? घास?’ पता नहीं सरकार ने आखिर यह फैसला क्यों लिया?’  

इन सब्जियों के बढ़े दाम

डॉन अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक कराची में अदरक और लहुसन क्रमशः 400 रुपये व 320 रुपये किलो की दर से बिक रहा है। वहीं तुरई 150 रुपये प्रति किलो, लौकी 120 रुपये प्रति किलो, बंदगोभी 80 रुपये प्रति किलो और शिमला मिर्च 120 रुपये प्रति किलो की दर से बिक रही है। इसके हरी मिर्च 100 रुपये रुपये किलो, चीन से आयात होने वाली अदरक थोक बाजार में 280 रुपये प्रति किलो, ईरान का लहुसन 240 रुपये किलो की दर से बेचा जा रहा है। 

दिन ब दिन गरीब होता जा रहा है पाकिस्तान, सरकार के खिलाफ लोगों में गुस्सा

ब्रेड भी महंगी

नाश्ते में लिया जाने वाला ब्रेड मक्खन भी महंगा हो गया है। अब छोटी ब्रेड का पैकेट 35 रुपये, मध्यम साइज की ब्रेड 56 रुपये और बड़ी ब्रेड का पैकेट 100 रुपये हो गया है। चार पीस वाला बन 55 रुपये और रस्क का पैकेट 80 रुपये का हो गया है। वहीं चीनी की कीमत 72 रुपये प्रति किलो हो गई है। 
 

वस्तु कीमत 
दूध  108 रुपये प्रति लीटर
दही    122 रुपये प्रति किलो 
मटन 1009 रुपये प्रति किलो
केले  130 रुपये दर्जन 
सरसों का तेल 246 रुपये प्रति लीटर 
प्याज       64.69 रुपये प्रति किलो
टमाटर 66.57 रुपये प्रति किलो 
चीनी 77.30 रुपये प्रति किलो
केरोसिन 151.25 रुपये प्रति लीटर 
एलपीजी सिलेंडर 1362.50 रुपये (11 लीटर)
पेट्रोल 113.18 रुपये प्रति लीटर 
डीजल 127.30 रुपये प्रति लीटर

 





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *