Reliance Future Group Deal Amazon Sends Legal Notice To Future Group Alleges Breach Of Contract – रिलायंस-फ्यूचर ग्रुप सौदे पर अमेजन ने उठाए सवाल, जानिए क्या है पूरा मामला



बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली

Updated Thu, 08 Oct 2020 12:49 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

मुकेश अंबनी के स्वामित्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर ग्रुप की डील में एक नया मोड़ सामने आया है। दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन ने फ्यूचर ग्रुप के प्रमोटरों को लीगल नोटिस भेजा है। इस संदर्भ में अमेजन ने कहा है कि फ्यूचर ग्रुप ने रिलायंस के साथ किए सौदे में एक नॉन-कंप्लीट कॉन्ट्रैक्ट का उल्लंघन किया है। 

उनकी कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (RRVL) फ्यूचर ग्रुप का रिटेल, होलसेल लॉजिस्टिक्स और वेयरहाउस बिजनेस 24 हजार 713 करोड़ में खरीद रही है। लेकिन अब ईटी नाउ की रिपोर्ट के अनुसार, इस डील के संबंध में अमेजन ने फ्यूचर ग्रुप को लीगल नोटिस भेजा है। मालूम हो कि इस मेगा डील से रिलायंस की रिटेल कारोबार में स्थिति और भी मजबूत हो जाएगी। भारतीय ई-कॉमर्स बाजार में अमेजन जैसे दिग्गज खिलाड़ियों को टक्कर देने के लिए रिलायंस रिटेल अपने पांव मजबूत कर रहा है।

अगस्त 2019 में हुई थी अमेजन-फ्यूचर की डील

दरअसल अगस्त 2019 में अमेजन ने करीब 1500 करोड़ रुपये में फ्यूचर कूपंस में 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी। फ्यूचर रिटेल के देशभर में बिग बाजार, एफबीबी, फूडहॉल और ईजीडे क्लब ब्रांड्स के तहत 1,000 से भी अधिक स्टोर्स हैं। नोटिस के अनुसार, फ्यूचर ग्रुप ने डील की शर्तों को पूरा नहीं किया है। अमेजन और फ्यूचर ग्रुप के सौदे में किसी तरह का विवाद होने पर कोर्ट और मध्यस्थता में जाने का प्रावधान है। 

रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप की डील की घोषणा करते समय रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड की निदेशक ईशा अंबानी ने कहा था कि, ‘फ्यूचर ग्रुप के प्रसिद्ध ब्रांडों के साथ-साथ उसके व्यावसायिक ईको सिस्टम को संरक्षित करने में हमें प्रसन्नता होगी। भारत में आधुनिक रिटेल के विकास में यह महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। हमें आशा है कि छोटे व्यापारियों, किराना स्टोर्स और बड़े उपभोक्ता ब्रांडों की सहभागिता के दम पर रिटेल सेक्टर में विकास की गति बनी रहेगी, हम देश भर में अपने उपभोक्ताओं को बेहतर मूल्य प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’

मुकेश अंबनी के स्वामित्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर ग्रुप की डील में एक नया मोड़ सामने आया है। दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन ने फ्यूचर ग्रुप के प्रमोटरों को लीगल नोटिस भेजा है। इस संदर्भ में अमेजन ने कहा है कि फ्यूचर ग्रुप ने रिलायंस के साथ किए सौदे में एक नॉन-कंप्लीट कॉन्ट्रैक्ट का उल्लंघन किया है। 

उनकी कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (RRVL) फ्यूचर ग्रुप का रिटेल, होलसेल लॉजिस्टिक्स और वेयरहाउस बिजनेस 24 हजार 713 करोड़ में खरीद रही है। लेकिन अब ईटी नाउ की रिपोर्ट के अनुसार, इस डील के संबंध में अमेजन ने फ्यूचर ग्रुप को लीगल नोटिस भेजा है। मालूम हो कि इस मेगा डील से रिलायंस की रिटेल कारोबार में स्थिति और भी मजबूत हो जाएगी। भारतीय ई-कॉमर्स बाजार में अमेजन जैसे दिग्गज खिलाड़ियों को टक्कर देने के लिए रिलायंस रिटेल अपने पांव मजबूत कर रहा है।

अगस्त 2019 में हुई थी अमेजन-फ्यूचर की डील

दरअसल अगस्त 2019 में अमेजन ने करीब 1500 करोड़ रुपये में फ्यूचर कूपंस में 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी। फ्यूचर रिटेल के देशभर में बिग बाजार, एफबीबी, फूडहॉल और ईजीडे क्लब ब्रांड्स के तहत 1,000 से भी अधिक स्टोर्स हैं। नोटिस के अनुसार, फ्यूचर ग्रुप ने डील की शर्तों को पूरा नहीं किया है। अमेजन और फ्यूचर ग्रुप के सौदे में किसी तरह का विवाद होने पर कोर्ट और मध्यस्थता में जाने का प्रावधान है। 

रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप की डील की घोषणा करते समय रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड की निदेशक ईशा अंबानी ने कहा था कि, ‘फ्यूचर ग्रुप के प्रसिद्ध ब्रांडों के साथ-साथ उसके व्यावसायिक ईको सिस्टम को संरक्षित करने में हमें प्रसन्नता होगी। भारत में आधुनिक रिटेल के विकास में यह महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। हमें आशा है कि छोटे व्यापारियों, किराना स्टोर्स और बड़े उपभोक्ता ब्रांडों की सहभागिता के दम पर रिटेल सेक्टर में विकास की गति बनी रहेगी, हम देश भर में अपने उपभोक्ताओं को बेहतर मूल्य प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *