RNI NEWS-जंडियाला में ड्रग विभाग के कर्मियों की मिलीभगत से हो रहा बड़े स्तर पर नशीली गोलियां का कारोबार 


RNI NEWS-जंडियाला में ड्रग विभाग के कर्मियों की मिलीभगत से हो रहा बड़े स्तर पर नशीली गोलियां का कारोबार 

जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह

एक तरफ जहाँ पंजाब सरकार और पुलिस नशे को रोकने के दिन रात प्रयास कर रही है वही जंडियाला गुरु में कुछ दवा विक्रेता ड्रग विभाग की मिलीभगत से जो सरकार द्वारा नशीली गोलियां प्रतिबंधित है उनको धड़ल्ले से बेचा जा रहा है यह नशीली गोलियां इतने बड़े स्तर पर बेची जा रही हैं है जिन दवा विक्रेता के पास केवल स्कूटर था उन्होंने ने इस काली कमाई से लग्ज़री गाड़ियां और बेनामी प्रोपेर्टी भी खरीदी है। इस काले कारोबार से हमारे समाज के युवक नशे की दलदल में धँसते जा रहे हैं ड्रग विभाग की ढीली कार्रवाई के चलते यह सारा काम शरेआम चल रहा है क्योंकि ड्रग विभाग के अधिकारी नियमों के अनुसार इन दवा विक्रेताओं की चेकिंग नही करते जिससे इन नशीली दवाइयों की बिक्री पर नकेल।डाली जा सके ।बता दे कि इन होलसेल नशे की गोलियां बिक्री करने वालों ने दुकानों के इलावा अपने बड़े बड़े गुदाम बनाये हुए है। इसके इलावा इनमे कुछ ऐसे दवा विक्रेता हैं जिन पर एन डी पी एस एक्ट के मामले भी दर्ज है ।फिर भी ड्रग विभाग ने लाइसेंस कैंसल करने की कोई कार्रवाई नही की ।इसी तरह ड्रग इंस्पेक्टर अमरपाल सिंह मल्ली गत दिनों मीडिया में मामला आने पर जंडियाला गुरु में आए लेकिन वह केवल तीन दवा विक्रेताओं के चेकिंग कर महज खानापूर्ति की ।इसके बाद अन्य किसी दवा विक्रेता की गंभीरता से जांच नही की गई और न ही उसका सेल पर्चेस रिकॉर्ड चेक किया गया।जब उनसे कारवाई के बारे में पूछा गया तो उन्होंने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि इनके खिलाफ कार्रवाई के लिए विभाग लिखित तौर पर रिपोर्ट भेज दी गई है लेकिन कई दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक कोई कार्रवाई नही हुई ।जबकि ड्रग एंड कॉस्मेटिक के अनुसार अपने इलाके में ड्रग इंस्पेक्टर की दवाओं के रख रखाव ,सेल्ज रिकॉर्ड की चैकिंग जिम्मेदारी होती है ।नशीली गोलियों की बिक्री में सबसे अहम बात होती है कि दवा विक्रेता इसका सेल और पर्चेस का रिकॉर्ड रखना अनिवार्य होता है क्योंकि नियमों के अनुसार हर दवा विक्रेता जो ऐसी दवा बेचता है वह बिना किसी डॉक्टर की पर्ची के बिना नही बेच सकता और हर रोज़ इसका रिकॉर्ड अपडेट करना होता है उसके पास कितना स्टॉक है और कितना बचा है भी रिकॉर्ड रखना होता ।इस मामले में वास्तिवकता कोसों दूर है ।जिसकी मिसाल थाना जंडियाला गुरु में गत वर्ष दर्ज किए सैंकड़े ऐसे मामले हैं जिनमे पुलिस ने किसी से 45 तो किसी से 100 से लेकर 1000 नशीली गोली और कैप्सूल पकड़े है ,जिनके मामले भी दर्ज है ।बावजूद इसके पुलिस प्रशासन ने इस बात को गम्भीरता से नही लिया कि आखिर इतनी बड़ी नशीली गोलियों कि खेप कहाँ से आती है औऱ इसके पीछे किस दवा विक्रेता का हाथ है यदि इस तरीके से जांच की होती तो कई परिवार इस नशे की दलदल में जाने से बच सकते थे ।
इस मामले में पंजाब हेल्थ सिस्टम एंड कारपोरेशन के डायरेक्टर डॉक्टर अवनीत कौर ने कहा कि ऐसे मामलों में लापरवाही बिल्कुल बर्दाश्त नही होगी ।वह इस मामले की विभागीय जांच कराएगी ।जो भी आरोपी होगा उसे बख्शा नही जाएगा ।
इसी तरह पंजाब के सेहत मंत्री बलबीर सिंह सिद्ध ने भी पत्रकार के साथ बातचीत करते हुए कहा कि वह पूरे पंजाब में इस मामले की जांच कराएंगे ,इसलिए कि नशे के कारोबार को नकेल डाली जा सके ।उन्होंने कहा कि कोई भी अधिकारी या कर्मी जांच में दोषी पाया गया तो सरकार की तरफ से उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई होगी।

फ़ोटो कैप्शन सेहत मंत्री पंजाब बलबीर सिंह सिद्ध 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *