RNI NEWS :- सब डिवीजन बलाचौर में खाने-पीने की चीजों में बढ़ रही मिलावटखोरी भयानक समस्या का रूप धारण कर रही है

RNI NEWS :- सब डिवीजन बलाचौर में खाने-पीने की चीजों में बढ़ रही मिलावटखोरी भयानक समस्या का रूप धारण कर रही है

बलाचौर, 13 अगस्त-(तेज प्रकाश खासा)

सब डिवीजन बलाचौर में खाने-पीने की चीजों में बढ़ रही मिलावटखोरी भयानक समस्या का रूप धारण करती जा रही है।कुछ एक दूध की डेयरीयां और करियाने वाले चंद रुपयों के लालच में बिना किसी डर भय और बड़े स्तर पर मिलावटी दूध,पनीर, खोआ और देसी घी आदि धड़ल्ले के साथ बेचकर लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ करते आ रहे हैं और इन पर नकेल कसने में सरकार भी बुरी तरह फेल हो चुकी है। सेहत विभाग कुंभकर्ण की नींद सोया हुआ है।शहर के अंदर आजकल 70 प्रतिशत देसी घी और दूध नकली बिक रहा है।
याद रहे कि 20 किलो दूध में 2 किलो क्रीम निकलने पर 1 किलो देसी घी बनता है।जो की असल में दूध की एक हजार की लागत होती है,मगर इनके पास से साढ़े तीन सौ से लेकर साढ़े चार सौ रुपए प्रति किलो देसी घी बेचा जाता है, वह मिलावट के साथ भरा होता है। मिलावट खोरी का धंधा करने वालों के हितैषियों की प्रवाह ना करते हुए सिर्फ लोगों के हक्कों और उनकी धार्मिक भावनाओं के साथ हो रहे खिलवाड़ के प्रति आवाज उठाते हुए दिनेश कुमार काकू आरटीआई एक्टिविस्ट ने बताया कि बलाचौर,सड़ोआ,पोजेवाल,मजारी, काठगढ़ की कई दूध की डेयरीयों के मालिक इस कदर निचले स्तर पर जा चुके हैं कि वह पशुओं की चर्बी तक मिलावटी देसी घी बेचते हैं,जो कि हम अपने घरों और धार्मिक स्थानों पर चिराग,हवन करने के अलावा देसी घी के भ्रम में हम प्रसाद की देग बना लेते हैं।
जानवरों की चर्बी वाला यह मिलावटी घी बहुत ही कम पैसों में इनको बड़े शहरों से सप्लाई होता है। इस तरह ज्यादा कमाई करने के चक्कर में नकली देसी घी बेच कर या लोगों की धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ करते हैं और सेहत विभाग के अधिकारी यहां मूकदर्शक बने हुए हैं।शहर के अंदर मिलावट खोरी का सामान बेचने वाले डेयरी और करियाना मालिकों के आगे चंद पैसों की खातिर अपना जमीन गिरवी रख कर उनकी कठपुतली बने समाज विरोधी अंसरौं को चैलेंज करते कहा कि अगर किसी इमानदार सेहत विभाग के अधिकारी उसके साथ तालमेल करें तो वह ऐसी सच्चाई सबके सामने ला सकते हैं।उसने मिलावटी सामान बेचने वालों के पक्ष में गलत वकालत करके लोगों के सामने आती सच्चाई को दबाने वालों को लोगों की आस्था के साथ जुड़ी इस लड़ाई में साथ देने की अपील करते हुए कहा कि किसी ना किसी तरीके आपकी किसी तरीके आपकी रसोई में भी मिलावट वाला समान पहुंचता है,जो कि आपकी और आपके बच्चों की सेहत के लिए भी नुकसानदेह है।इसलिए मिलावटखोरी के विरुद्ध उठाई आवाज में मिलावटखोरों के पक्ष में बात करने की बजाय लोगों के पक्ष में बात को पहल दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *