Shivsena on Ayodhya verdict: नहीं मानी थी मंदिर पर कानून की मांग, अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले का श्रेय नहीं ले सकता केंद्र: शिवसेना – shivsena targets bjp over ayodhya verdict in supreme court


नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)
हाइलाइट्स

  • अयोध्या मामले पर फैसले से पहले शिवसेना के बयान पर बीजेपी का निशाना
  • शिवसेना बोली- अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का श्रेय ना ले बीजेपी
  • पार्टी ने बयान में कहा- बीजेपी ने नहीं मानी थी मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाने की मांग
  • महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर दोनों दलों के बीच जारी है तनातनी

मुंबई

सुप्रीम कोर्ट द्वारा शनिवार को राम मंदिर पर फैसला सुनाए जाने का ऐलान किए जाने के बाद शिवसेना ने एक बार फिर बीजेपी पर निशाना साधा है। महाराष्ट्र में दोनों दलों के बीच जारी तनातनी के बीच शिवसेना ने कहा है कि उसने केंद्र सरकार से राम मंदिर पर कानून बनाने की मांग की थी, लेकिन बीजेपी सरकार ने इसे खारिज कर दिया। शिवसेना ने कहा है कि अब केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले का क्रेडिट नहीं ले सकती है।

महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे के बाद से ही बीजेपी पर हमलावर शिवसेना ने राम मंदिर को लेकर भारतीय जनता पार्टी की आलोचना की है। बता दें कि शिवसेना समेत तमाम हिंदू संगठन पूर्व में राम मंदिर के निर्माण के लिए केंद्र सरकार से संसद में कानून बनाने की मांग करते रहे हैं। हालांकि केंद्र ने पहले ही यह ऐलान किया था कि अयोध्या मामले का निर्णय सुप्रीम कोर्ट के द्वारा ही किया जाएगा।

पढ़ें: उद्धव बोले, CM तो हमारा ही, BJP के साथ या..

शनिवार को सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने यह जानकारी दी है कि संवैधानिक पीठ शनिवार को अयोध्या मामले का फैसला सुनाएगी। ऐसे में शिवसेना ने अब अपना बयान जारी करते हुए इसी पृष्ठभूमि का जिक्र किया है। शिवसेना ने कहा है कि पहले बीजेपी ने राम मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाने की मांग को खारिज कर दिया था, ऐसे में पार्टी अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले का भी श्रेय नहीं ले सकती है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please select facebook feed.