Walmart India Lets Go Of Top Executives Across Divisions – वॉलमार्ट इंडिया करने जा रही है छंटनी, खतरे में 100 से ज्यादा लोगों की नौकरी



ख़बर सुनें

वॉलमार्ट इंडिया अपने स्टोर्स के बिजनस से जुड़े शीर्ष अधिकारियों (सीनियर एग्जिक्यूटिव) में से एक तिहाई अधिकारियों को हटाने जा रही है। गुरुग्राम स्थित कंपनी के मुख्यालय से छंटनी  की जाएगी। वॉलमार्ट ने साल 2018 में देश की टॉप ई-कॉमर्स कंपनियों में शुमार फ्लिपकार्ट को खरीदा था। 

100 से ज्यादा अधिकारियों की होगी छंटनी 

कंपनी को भारत में कैश-एंड-कैरी बिजनस में भविष्य नजर नहीं आ रहा है। वॉलमार्ट ने एग्री बिजनस और एफएमसीजी डिविजन से उपाध्यक्ष सहित 100 से अधिक सीनियर एग्जिक्यूटिव्स की छंटनी  के बारे में जानकारी दी है। 

ये है कंपनी की योजना

इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के अनुसार, वॉलमार्ट की योजना मुंबई में फुलफिलमेंट सेंटर बंद करने की भी है, जो देश में कंपनी का सबसे बड़ा वेयरहाउस है। साथ ही कंपनी देश में नए स्टोर भी नहीं खोलेगी। कंपनी यह कदम इसलिए उठा रही है क्योंकि भारत में कंपनी को मुनाफा नहीं हुआ है। भारत में वॉलमार्ट को कारोबार शुरू किए हुए करीब 10 साल हो गए हैं, लेकिन कंपनी की ग्रोथ धीमी है।

वॉलमार्ट के प्रवक्ता ने दिया बयान

हालांकि अधिकारियों की छंटनी व नए स्टोर नहीं खोलने पर कंपनी ने कोई टिप्पणी नहीं की है। कंपनी के वॉलमार्ट के प्रवक्ता ने कहा है कि, ‘हम हमेशा अधिक कुशलता से कामकाज करने के तरीके खोजते हैं। इसमें कॉर्पोरेट स्ट्रक्चर की समीक्षा करने की जरूरत होती है, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि हम अपने ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए सही रास्ते पर हैं।’

अप्रैल में दोबारा हो सकती है छंटनी 

इतना ही नहीं, इस साल कंपनी में और लोगों की भी छंटनी हो सकती है। इस संदर्भ में सूत्र ने बताया कि, ‘यह छंटनी का पहला दौर है और हमें अप्रैल तक ऐसा दोबारा होने का अनुमान है। वॉलमार्ट को भारत में ऑफलाइन कैश-एंड-कैरी कारोबार में कोई भविष्य नहीं दिख रहा है। इसलिए कंपनी के पास कारोबार से बाहर निकलना या मर्जर ही दो विकल्प हैं।’

इतना रहा घाटा

पिछले वित्त वर्ष में वॉलमार्ट इंडिया की बिक्री 4,095 करोड़ रुपये हुई थी और नेट घाटा 171.6 करोड़ रुपये था। बता दें कि वॉलमार्ट इंडिया के बेस्ट प्राइस स्टोर्स का मार्च 2019 तक घाटा 2,180.8 करोड़ रुपये था।

वॉलमार्ट इंडिया अपने स्टोर्स के बिजनस से जुड़े शीर्ष अधिकारियों (सीनियर एग्जिक्यूटिव) में से एक तिहाई अधिकारियों को हटाने जा रही है। गुरुग्राम स्थित कंपनी के मुख्यालय से छंटनी  की जाएगी। वॉलमार्ट ने साल 2018 में देश की टॉप ई-कॉमर्स कंपनियों में शुमार फ्लिपकार्ट को खरीदा था। 

100 से ज्यादा अधिकारियों की होगी छंटनी 

कंपनी को भारत में कैश-एंड-कैरी बिजनस में भविष्य नजर नहीं आ रहा है। वॉलमार्ट ने एग्री बिजनस और एफएमसीजी डिविजन से उपाध्यक्ष सहित 100 से अधिक सीनियर एग्जिक्यूटिव्स की छंटनी  के बारे में जानकारी दी है। 

ये है कंपनी की योजना

इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के अनुसार, वॉलमार्ट की योजना मुंबई में फुलफिलमेंट सेंटर बंद करने की भी है, जो देश में कंपनी का सबसे बड़ा वेयरहाउस है। साथ ही कंपनी देश में नए स्टोर भी नहीं खोलेगी। कंपनी यह कदम इसलिए उठा रही है क्योंकि भारत में कंपनी को मुनाफा नहीं हुआ है। भारत में वॉलमार्ट को कारोबार शुरू किए हुए करीब 10 साल हो गए हैं, लेकिन कंपनी की ग्रोथ धीमी है।

वॉलमार्ट के प्रवक्ता ने दिया बयान

हालांकि अधिकारियों की छंटनी व नए स्टोर नहीं खोलने पर कंपनी ने कोई टिप्पणी नहीं की है। कंपनी के वॉलमार्ट के प्रवक्ता ने कहा है कि, ‘हम हमेशा अधिक कुशलता से कामकाज करने के तरीके खोजते हैं। इसमें कॉर्पोरेट स्ट्रक्चर की समीक्षा करने की जरूरत होती है, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि हम अपने ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए सही रास्ते पर हैं।’

अप्रैल में दोबारा हो सकती है छंटनी 

इतना ही नहीं, इस साल कंपनी में और लोगों की भी छंटनी हो सकती है। इस संदर्भ में सूत्र ने बताया कि, ‘यह छंटनी का पहला दौर है और हमें अप्रैल तक ऐसा दोबारा होने का अनुमान है। वॉलमार्ट को भारत में ऑफलाइन कैश-एंड-कैरी कारोबार में कोई भविष्य नहीं दिख रहा है। इसलिए कंपनी के पास कारोबार से बाहर निकलना या मर्जर ही दो विकल्प हैं।’

इतना रहा घाटा

पिछले वित्त वर्ष में वॉलमार्ट इंडिया की बिक्री 4,095 करोड़ रुपये हुई थी और नेट घाटा 171.6 करोड़ रुपये था। बता दें कि वॉलमार्ट इंडिया के बेस्ट प्राइस स्टोर्स का मार्च 2019 तक घाटा 2,180.8 करोड़ रुपये था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *